BIHARMIRROR

Welcome to Biharmirror

BJP challenges RJD to declare a Dalit or backward person as CM candidate of Grand Alliance | भाजपा ने राजद को दी किसी दलित या अतिपिछड़े को महागठबंधन का सीएम प्रत्याशी घोषित करने की चुनौती

  • भाजपा का आरोप-चुनाव करीब देख बिहार में हंगामा करवाने का प्रयास कर सकता है राजद
  • राजीव रंजन ने कहा-दलितों व अतिपिछड़ों के लिए उमड़ने वाला राजद का प्रेम महज दिखावटी

दैनिक भास्कर

Jun 15, 2020, 08:16 PM IST

पटना. भाजपा ने राजद को किसी दलित या अतिपिछड़े को महागठबंधन का सीएम प्रत्याशी घोषित करने की चुनौती दी है। पार्टी प्रवक्ता व पिछड़े समाज के नेता राजीव रंजन ने कहा कि राजद अति पिछड़ों व दलितों को सिर्फ वौट बैंक के रुप में देखता है। इन्हें दलित व अतिपिछड़ों के वोट चाहिए लेकिन उनका आगे बढ़ना इन्हें नहीं सुहाता। यह अपने 15 सालों के शासन का एक काम नहीं गिना सकते, जिससे दलितों व अतिपिछड़ों का थोड़ा भी भला हुआ हो। उसका फिर से उमड़ने वाला प्यार महज दिखावटी है। बहरहाल राजद यह जान ले कि पिछले चुनावों की तरह ही इस बार भी उसके इस बनावटी प्रेम का दलित व पिछड़े समाज पर कोई असर नहीं पड़ने वाला। बिहार का दलित-अतिपिछड़ा समाज जाग चुका है। अगर उन्हें इस समाज से हमदर्दी है तो खुद आगे बढ़कर किसी दलित व अतिपिछड़े समाज के नेता को महागठबंधन का सीएम प्रत्याशी घोषित करे।

रंजन ने कहा कि वास्तव में राजद की कथनी और करनी का अंतर अब पूरा बिहार जानता है। यह सामाजिक न्याय के नाम पर कितना भी गाल बजा लें, लेकिन हकीकत यही है कि इनका सामाजिक न्याय कभी भी लालू जी के घर की दहलीज को पार नहीं कर पाया। राजद बताये कि आखिर क्या कारण है उनके राज में लालू जी के बेटे छोटी उम्र में ही, बिना कुछ किए करोड़पति बन गये, वहीं बिहार के दलित व अतिपिछड़ों को दो जून की रोटी के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा था।

भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष ने कहा कि वर्तमान राजद पूरी तरह से जमीन से कटी और विचारधारा से रहित पार्टी है। इनके लिए राजनीति सेवा नहीं बल्कि सत्ता प्राप्ति का माध्यम है। जिस तरह से एक साल में कांग्रेस के साथ इन्होंने सीएए और धारा 370 जैसे ऐतिहासिक मसलों पर बेवजह जनता को भड़काने का प्रयास किया है, उसे देखते हुए इस बात की प्रबल संभावना है कि चुनाव को देखते हुए यह बिहार में भी हंगामा खड़ा करवाने का प्रयास कर सकते हैं। बिहार की जनता को इनसे सावधान रहना चाहिए, अपने मतलब के लिए यह अवसरवादी दल कुछ भी कर सकते हैं।

Source link