BIHARMIRROR

Welcome to Biharmirror

Four months ago, CO Devendra Mishra had expressed concern about the nexus between Chaubepur Police Station and Vikas Dubey, wrote a letter to SSP | अधिकारी को लिखा था- गैंगस्टर विकास की ढाल बने हुए हैं थाना प्रभारी, जल्द कार्रवाई ना की तो बड़ी वारदात होगी

  • डीएसपी देवेंद्र मिश्र ने 14 मार्च 2020 को तब के एसएसपी को थाना प्रभारी विनय तिवारी पर कार्रवाई करने के लिए पत्र लिखा था
  • डीएसपी की बेटी ने कहा- पिता का बलिदान बेकार नहीं जाने दूंगी, पुलिस में शामिल होकर देश सेवा करूंगी

दैनिक भास्कर

Jul 06, 2020, 10:20 PM IST

कानपुर. कानपुर के बिकरु गांव में 8 पुलिसवालों की हत्या के मामले में 3 दिन बाद बड़ा खुलासा हुआ है। गैंगस्टर विकास दुबे और उसकी गैंग से मुठभेड़ में जान गंवाने वाले बिल्हौर डीएसपी देवेंद्र मिश्रा का एक लेटर सामने आया है, जो करीब तीन माह पहले कानपुर के तब के एसएसपी अनंत देव को लिखा गया था।

इस चिट्ठी में मिश्रा ने चौबेपुर थानाध्यक्ष विनय तिवारी और हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के बीच मिलीभगत की आशंका जताई थी। डीएसपी ने यह भी चेताया था कि अगर जल्द कोई कार्रवाई नहीं हुई तो बड़ी घटना हो सकती है।

आईजी ने एसएसपी दफ्तर से सभी लेटर मंगवाए

कानपुर रेंज के आईजी मोहित अग्रवाल ने एसएसपी दफ्तर से सभी लेटर तलब किए हैं। कानपुर के एसएसपी दिनेश कुमार ने बताया- सीओ की ओर से एसएसपी को जो लेटर लिखने की बात सामने आ रही है, वह एसएसपी से लेकर सीओ कार्यालय में नहीं मिल रहा है। उसकी न तो कोई डिस्पैच होने की तारीख है और न ही रिसीविंग की। 

विकास को बचा रहा था विनय तिवारी
जो लेटर सामने आया है, वह डीएसपी मिश्रा ने 14 मार्च 2020 को लिखा था। इसमें लिखा था- विकास दुबे के खिलाफ लूट, हत्या और अन्य संगीन अपराधों के 150 केस दर्ज हैं। उसके खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाना चाहिए। थाना प्रभारी चौबेपुर विनय तिवारी गैंगस्टर विकास दुबे की ढाल बने हुए हैं। तिवारी बचाव में कुछ भी करने को तैयार हैं।

विकास के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए चौबेपुर थाना प्रभारी को निर्देश दिया गया था। लोगों में विकास के खिलाफ बोलने की हिम्मत नहीं है। इस मामले में थाना प्रभारी ने कोई कार्रवाई नहीं की। विकास के प्रति एसओ का रवैया सहानुभूति भरा है। डीएसपी ने थाना प्रभारी पर कार्रवाई की भी मांग की थी। उन्होंने एसएसपी को फोन पर भी शिकायत की थी, लेकिन कहा जा रहा है कि एसएसपी ने कार्रवाई के लिए कोई निर्देश नहीं दिए थे। 

सीओ की चिट्ठी।

थाना प्रभारी विनय तिवारी सस्पेंड हो चुका
बीती 2 जुलाई की रात जब पुलिस पर हमला हुआ, तब चौबेपुर थानाध्यक्ष विनय तिवारी पीछे हट गए थे। उन पर ही दबिश से पहले विकास को सूचना देने का आरोप है। एसटीएफ ने पूछताछ भी की थी। इसके बाद उन्हें सस्पेंड कर दिया गया था। सोमवार को दो एसआई और कांस्टेबल को भी ड्यूटी में लापरवाही बरते जाने के कारण सस्पेंड कर दिया गया है।

डीएसपी देवेंद्र की बेटी वैष्णवी।

बेटी ने कहा- पिता के बलिदान को बेकार नहीं जाने दूंगी
आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने सोमवार डीएसपी देवेंद्र मिश्रा के परिजनों से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने मामले की सीबीआई जांच की मांग की। उन्होंने पूरे घटनाक्रम को साजिश बताया और देवेंद्र मिश्रा का लेटर भी ट्वीट किया।

डीएसपी देवेंद्र की बेटी वैष्णवी मिश्रा ने कहा कि मैं अपने पिता के बलिदान को बेकार नहीं जाने दूंगी। मैं मेडिकल परीक्षा की तैयारी कर रही थी, लेकिन अब मैं भी एक पुलिस अधिकारी बनूंगी और अपने पिता की तरह देश की सेवा करूंगी। 

अमिताभ ठाकुर ने डीजीपी से पूर्व एसएसपी की शिकायत की
आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर ने सोमवार को डीजीपी एचसी अवस्थी से कानपुर के पूर्व एसएसपी अनंत देव के खिलाफ एक्शन लेने की मांग की है। उन्होंने डीजीपी को लिखे लेटर में डीएसपी देवेंद्र मिश्रा का लेटर भी लगाया है। उन्होंने लिखा की डीएसपी की शिकायत के बाद एसएसपी ने कोई एक्शन नहीं लिया, यह लापरवाही है। 

Source link