BIHARMIRROR

Welcome to Biharmirror

Interstate Thugs Caught By Bhopal Cyber Police Team For Cheating 661 People | प्रधानमंत्री और कोविड-19 के नाम पर ठगी करने वाला गिरोह पकड़ाया, लोन दिलाने के नाम पर 661 लोगों से की ठगी

  • भोपाल सायबर क्राइम ब्रांच ने की कार्रवाई, गिरोह के छह लोगों में से एक आरोपी सबसे ज्यादा 12वीं तक पढ़ा-लिखा है
  • 15 लाख का लोन दिलाने के लिए प्रोसेसिंग फीस और लोन का बीमा करने के एवज में लेते थे पौने 2 लाख रुपए

दैनिक भास्कर

Jul 06, 2020, 07:36 PM IST

भोपाल. प्रधानमंत्री लोन एवं कोविड-19 पर ठगी करने वाले अंतरराज्यीय शातिर ठगों के एक गिरोह को भोपाल की साइबर क्राइम ब्रांच की टीम ने पकड़ा है। इस गिरोह के 6 सदस्य ही अब तक देशभर में 661 लोगों से करोड़ों रुपए की ठगी कर चुके हैं। आरोपी कम ब्याज पर 15 लाख रुपए का लोन दिलाने के नाम पर पौने दो लाख रुपए ले लेते थे। लोगों को फंसाने के लिए वह मोबाइल पर प्रधानमंत्री लोन एवं कोविड-19 का मैसेज भेजते थे। हैरानी की बात यह है कि 12वीं तक पढ़ा एक आरोपी ही इस गैंग में सबसे ज्यादा पढ़ा-लिखा है। पुलिस ने का दावा है कि हर एक से करीब 20 से 30 हजार की ठगी तो कम से कम हुई है। गिरोह के ट्रांजेक्शन की जानकारी के बाद ही रकम का खुलासा हो पाएगा।

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक भोपाल उपेन्द्र जैन (बीच में नीले रंग की शर्ट में), डीआईजी भोपाल इरशाद वली यलो मास्क में और पुलिस अधीक्षक मुख्यालय धर्मवीर सिंह ने प्रेस कांफ्रेंस की।

7वीं वाहिनी बिसबल के एक जवान करवसेन नेहरा ने सायबर क्राइम ब्रांच में धोखाधड़ी की शिकायत की थी। पुलिस ने मामले की जांच शुरू की तो आरोपियों के खिलाफ शिकायतों का अंबार लग गया। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक भोपाल उपेन्द्र जैन ने बताया कि नेहरा से आरोपियों ने लोन दिलाने के पर 1,81,808 रुपए दो अलग-अलग खातों में जमा करवाए थे। उसके बाद से गायब हो गए थे।

पुलिस ने मामले की जांच के लिए विशेष टीम गठित की थी। इसने 6 ठगों को गिरफ्तार किया है। ठगों के पास से लैपटॉप, पेनड्राइव, 16 मोबाइल फोन, 8 रजिस्टर (लेन-देन विवरण), 36 पॉकेट डायरी और कुछ फर्जी दस्तावेज (पेन कार्ड, आधार कार्ड) मिले हैं। दस्तावेजों की जांच की जा रही है।

प्रधानमंत्री और कोविड-19 के नाम मैसेज भेजकर फंसाते थे लोगों को
आरोपी समाचार पत्रों में आसान किस्तों पर लोन व कम परसेंट पर ब्याज देने का विज्ञापन देते थे। इसके लिए प्रधानमंत्री स्कीम और कोविड-19 के नाम पर आकर्षक ब्याज दरों पर 15 लाख रुपए तक का लोन दिलाने का झांसा देते थे। अंत में मोबाइल नंबर होते थे। फोन पर ही लोन की प्रोसेसिंग फीस, लोन के लिए बीमा आदि के बहाने जवान से 1,81,808 रुपए अपने दो फर्जी नाम पर खोले गए खातों में जमा करवा देते थे। यह पैसा आरोपी एटीएम के माध्यम से निकाल लेते थे। 

आरोपी और उनका प्रोफाइल

नाम उम्र निवासी शिक्षा धोखाड़ी का प्रकार
सुरेश राजपूत 34 साल थाना कोतवाली श्योपुर 10वीं कृषि एवं लोन 
वृजपाल राजपूत 32 साल थाना मानपुर श्योपुर 5वीं कृषि एवं लोन 
बृजेश राजपूत 30 साल थाना डोडर श्योपुर अशिक्षित मजदूरी एवं लोन 
पंकज कुशवाह 24 साल थाना सदर गाजीपुर 12वीं कृषि एवं लोन 
प्रिंस कुमार सिंह 22 साल थाना अमनोर बिहार 10वीं मजदूरी एवं लोन 
संजू राजपूत 20 साल वीरसुर जिला श्योपुर 8 वीं कृषि एवं लोन 

Source link