BIHARMIRROR

Welcome to Biharmirror

Jammu and Kashmir News Update; Shah Faesal, PDP Leaders Sartaj Madani and Peer Mansoor to be Released Soon as Government repealed Public Safety Act (PSA) | सरकार ने शाह फैसल और दो पीडीपी नेताओं के खिलाफ पीएसए के तहत दर्ज केस खत्म किया

  • शाह को 14 अगस्त को दिल्ली एयरपोर्ट से हिरासत में लिया गया था, तब वह विदेश जाने की फिराक में थे
  • शाह फैसल सिविल सर्वेंट रहे हैं और जम्मू-कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट (जेकेपीएम) के चीफ हैं

दैनिक भास्कर

Jun 03, 2020, 05:30 PM IST

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर सरकार ने बुधवार को शाह फैसल और पीडीपी नेता सरताज मदनी और पीर मंसूर के खिलाफ पब्लिक सेफ्टी एक्ट (पीएसए) के तहत दर्ज केस को खत्म कर दिया। शाह फैसल सिविल सर्वेंट रहे हैं और जम्मू-कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट (जेकेपीएम) के चीफ हैं। शाह पर इसी साल फरवरी में पीएसए के तहत कार्रवाई की गई थी। वह अगस्त 2019 में जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद से ही हिरासत में हैं। 

शाह को दिल्ली एयरपोर्ट से हिरासत में लिया गया था
14 अगस्त को उन्हें दिल्ली एयरपोर्ट से हिरासत में लिया गया था। तब वह विदेश जाने की फिराक में थे। इसके बाद से उन्हें श्रीनगर में नजरबंदी में रखा गया। इंटेलिजेंस ब्यूरो ने 12 अगस्त को फैसल के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी किया था। फैसल ने कहा था कि वे हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से पढ़ाई पूरी करने के लिए अमेरिका जा रहे थे। जबकि सरकार ने बताया कि वे टूरिस्ट वीजा पर विदेश जा रहे थे, न कि स्टूडेंट वीजा पर।

पीएसए में बिना ट्रायल हिरासत में रखने का प्रावधान
पीएसए में दो सेंक्शन हैं। पहला ‘पब्लिक ऑर्डर’ और दूसरा ‘राज्य की सुरक्षा के लिए खतरा’। पहले सेक्शन के तहत बिना ट्रायल के छह महीने तक और दूसरे सेंक्शन के तहत दो साल तक हिरासत में रखा जा सकता है। 

Source link