BIHARMIRROR

Welcome to Biharmirror

Market News In Hindi : Uday Kotak sold 2.83 percent stake in Kotak Mahindra Bank, raised Rs 6,944 crore by selling shares | कोटक महिंद्रा बैंक में उदय कोटक ने बेची 2.83 प्रतिशत हिस्सेदारी, शेयर बेचकर जुटाया 6,944 करोड़ रुपए

  • बुधवार को बैंक का शेयर बीएसई पर 3.31 प्रतिशत बढ़कर बंद हुआ
  • 23 मार्च के बाद से अब तक इस शेयर ने 30 प्रतिशत रिटर्न दिया

दैनिक भास्कर

Jun 03, 2020, 05:27 PM IST

मुंबई. अरबपति बैंकर उदय कोटक ने मंगलवार को कोटक महिंद्रा बैंक में प्रवर्तक समूह की 2.83 प्रतिशत हिस्सेदारी 6,944 करोड़ रुपए में बेच दी। इस बिक्री के बाद बैंक में उदय कोटक प्रवर्तक समूह की हिस्सेदारी घटकर 26.10 प्रतिशत रह गई। यह रिजर्व बैंक के तय मानकों के अनुरूप होगी।

बुधवार को बैंक का शेयर 3.31 प्रतिशत बढ़कर 1,387 रुपए पर बंद हुआ। मंगलवार को यह 7 प्रतिशत से ज्यादा बढ़कर बंद हुआ था। 23 मार्च को यह 1,000 रुपए पर था। तब से लेकर अब तक इसने 30 प्रतिशत का रिटर्न दिया है।

उदय कोटक को 26 प्रतिशत तक लानी है हिस्सेदारी

बता दें कि रिजर्व बैंक ने उदय कोटक को बैंक में अपनी हिस्सेदारी को घटाकर 26 प्रतिशत पर लाने का आदेश दिया था। कोटक बैंक के शेयरों को 1,215 से लेकर 1,240 रुपए प्रति शेयर के मूल्य पर बेचा गया। नियम के मुताबिक शेयर बिक्री पिछले दिन के बंद भाव के मुकाबले एक प्रतिशत से कम नहीं होनी चाहिए। इस लिहाज से भाव 1,236 रुपए प्रति शेयर बैठ रहा था। लेकिन बैंक ने यह बिक्री 1,240 रुपए प्रति शेयर पर की।

पिछले हफ्ते क्यूआईपी के जरिए जुटाया था 7,400 करोड़ रुपए

कोटक महिंद्रा बैंक ने पिछले हफ्ते में क्यूआईपी के जरिए 7,400 करोड़ रुपए जुटाया था। इसके बाद बैंक में प्रवर्तक समूह की हिस्सेदारी घटकर 29.8 प्रतिशत रह गई थी।  रिजर्व बैंक और कोटक के बीच इस साल की शुरुआत में एक समझौता हुआ था। इसके तहत प्रवर्तक की हिस्सेदारी कोटक बैंक में अगस्त तक 26 प्रतिशत पर लाई जानी है।

प्रमुख संस्थानों ने खरीदे बैंक के शेयर

बैंक में शेयर खरीदनेवाले प्रमुख संस्थानों में एसबीआई म्यूचुअल फंड, आदित्य बिडला सन लाइफ म्यूचुअल फंड, आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस कंपनी और निपॉन इंडिया म्यूचुअल फंड का समावेश था। अरबपति कारोबारी उदय कोटक और रिजर्व बैंक के बीच हिस्सेदारी कम करने का मुद्दा काफी लंबे समय से चल रहा था। कोटक महिंद्रा बैंक में उदय कोटक की तय मानकों से अधिक हिस्सेदारी को लेकर रिजर्व बैंक ने आदेश दिया था। जिससे दोनों के बीच टकराव बढ़ गया था।

Source link