BIHARMIRROR

Welcome to Biharmirror

Patna News In Hindi : 68% pass in Bihar, Hitesh and Farooq in Science, Preity in Arts and Shivam Patna Topper in Commerce | बिहार में 68% ही पास, साइंस में हितेश व फारुक, आर्ट्स में प्रीति और कॉमर्स में शिवम पटना टाॅपर

  • देश में 88.87% उत्तीर्ण, पिछले साल से 5% ज्यादा, छठे साल लड़कियां आगे
  • पटना जाेन का 7% बढ़ा रिजल्ट फिर भी देश में सबसे नीचे

दैनिक भास्कर

Jul 14, 2020, 11:31 AM IST

पटना. सीबीएसई 12वीं बोर्ड के रिजल्ट सोमवार को जारी कर दिए गए। 15 फरवरी से 30 मार्च के बीच हुई परीक्षा में कुल 11 लाख 92 हजार 961 छात्र शामिल हुए थे। इनमें से 10 लाख 59 हजार 80 पास हुए हैं। कुल पास प्रतिशत 88.78% रहा है। यह 2019 के मुकाबले 5.38% ज्यादा है। इधर, पटना जोन (बिहार-झारखंड) का रिजल्ट इस बार 74.57 प्रतिशत रहा। पिछले साल से यह 7.84 प्रतिशत अधिक है।

पिछले साल 66.73 प्रतिशत परीक्षार्थी पास हुए थे। वहीं केवल बिहार के 68.06 प्रतिशत परीक्षार्थी पास हुए हैं। बिहार के छात्रों का रिजल्ट भी 6.48 फीसदी बढ़ा है। पिछले साल 61.58 प्रतिशत परीक्षार्थी ही पास हुए थे। हालांकि रिजल्ट अच्छा होने के बाद भी पटना जोन देशभर में सबसे निचले पायदान 16वें स्थान पर है।

पटना जोन में 80.58 प्रतिशत छात्राएं सफल हुई हैं, जबकि छात्रों का सफलता प्रतिशत 71.29 है। पटना में डीएवी खगौल के छात्र हितेश आनंद और सेंट कैरेंस हाई स्कूल के मो. कमर फारुक साइंस स्ट्रीम के टाॅपर हैं। दोनों को 98.6 प्रतिशत अंक हासिल हुए हैं। वहीं आर्ट्स में केंद्रीय विद्यालय कंकड़बाग की छात्रा प्रीति कुमारी ने 98.4 प्रतिशत अंक लाकर पटना में टॉप किया है। कॉमर्स में डीएवी बीएसईबी के छात्र शिवम डारोलिया टॉपर हैं। उन्हें 98 प्रतिशत अंक मिले हैं।
देशभर में लगातार छठे साल पास प्रतिशत के मामले में लड़कियां आगे रही हैं। इस बार लड़कियों का पास प्रतिशत 92.15% रहा। वहीं, लड़कों का पास प्रतिशत 86.19% रहा। यानी लड़कियां लड़कों से 5.96% से आगे रहीं। ट्रांसजेंडर का पास प्रतिशत 66.67% रहा।  

डिजिटल होगी मार्कशीट, फेल को भी फेल नहीं लिखा जाएगा
इस साल परीक्षार्थियों को डिजिलॉकर के जरिए डिजिटल मार्कशीट दी जाएगी। इसे digilocker.gov.in से डाउनलोड करना होगा। बोर्ड की तरफ से छात्रों को जरूरी जानकारी एसएमएस के जरिए दिया गया है। इसका इस्तेमाल कर वे मार्कशीट डाउनलोड कर सकते हैं। परीक्षा पास न कर पाने वाले छात्रों की मार्कशीट पर फेल नहीं लिखा जाएगा। इसकी जगह एसेंशियल रिपीट लिखा होगा।  

Source link