BIHARMIRROR

Welcome to Biharmirror

Patna News In Hindi : Only the postal ballots received before 8 am on the day of counting will be counted, the ongoing preparations | मतगणना के दिन सुबह 8 बजे के पहले प्राप्त होने वाले पोस्टल बैलेट ही गिने जाएंगे, चल रही तैयारी

  • बिहार में पहली बार 60 लाख से अधिक वोटरों के पोस्टल बैलेट इस बार गिने जाएंगे

दैनिक भास्कर

Jul 11, 2020, 06:09 AM IST

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव में इस बार 65 वर्ष से ऊपर के मतदाता और कोरोना संक्रमित मतदाताओं को पोस्टल बैलेट से वोट देने का अधिकार मिल गया है। लेकिन ऐसे मतदाताओं के पोस्टल बैलेट तभी गिने जाएंगे जब मतगणना के दिन 8 बजे सुबह के पहले प्राप्त हो जाएं। निर्वाचन विभाग के अनुसार अगर यह बैलेट पेपर 8 बजे सुबह के पहले प्राप्त नहीं होते हैं तो इन्हें काउंट नहीं किया जाएगा। बिहार विधानसभा के चुनाव में इस बार पहली बार ऐसे 60 लाख से अधिक वोटरों के पोस्टल बैलेट गिने जाएंगे।

बैलेट के लिए चुनाव आयोग तैयार कर रहा है गाइडलाइन

चुनाव आयोग के अनुसार 65 साल से अधिक उम्र के वोटर और कोरोना संक्रमित मतदाताओं को चुनाव की अधिसूचना जारी होने के 5 दिन के अंदर संबंधित निर्वाची पदाधिकारी को आवेदन देना होगा। इसके लिए फॉर्म 12डी में आवेदन करना होगा। फॉर्म की जांच के बाद निर्वाची पदाधिकारी पोस्टल बैलेट पेपर से वोटिंग की अनुमति देंगे। हालांकि मतदाताओं को बैलेट पेपर कैसे उपलब्ध कराए जाएंगे, इसको लेकर चुनाव आयोग गाइडलाइन तैयार कर रहा है। आयोग से दिशानिर्देश प्राप्त होते ही सभी निर्वाची पदाधिकारियों को निर्देश जारी कर दिया जाएगा।

निर्वाची पदाधिकारियों की फिलहाल पटना में ट्रेनिंग चल रही है। अभी तक सिर्फ सर्विस वोटरों को ही पोस्टल बैलेट से वोटिंग का अधिकार था। उन्हें इलेक्ट्रॉनिकली ट्रांसमिटेड पोस्टल बैलेट सिस्टम से बैलट पेपर उपलब्ध कराया जाता है। वोटिंग के बाद वह डाक से निर्वाची पदाधिकारी को पोस्टल बैलट भेज देते हैं। लेकिन 65 साल से अधिक उम्र और कोरोना संक्रमित मतदाताओं के लिए फिलहाल ऐसी कोई गाइडलाइन प्राप्त नहीं हुई है।

निर्वाची पदाधिकारियों का लिया जा रहा ट्रेनिंग के बाद टेस्ट

विधानसभा चुनाव के मद्देनजर निर्वाची पदाधिकारियों की ट्रेनिंग के बाद उनका टेस्ट भी लिया जा रहा है। पहले चरण की ट्रेनिंग समाप्त होने के बाद शुक्रवार की शाम निर्वाची पदाधिकारियों का आरओ सर्टिफिकेशन टेस्ट भी हुआ। इसके अलावा उन्हें एक मोबाइल एप भी उपलब्ध कराया गया जिसके माध्यम से वे चुनाव से जुड़े सारे नियम कायदों की जानकारी रखेंगे। ट्रेनिंग के अंतिम दिन मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एचआर श्रीनिवास ने उन्हें एप उपलब्ध कराया। पहले चरण में 98 निर्वाची पदाधिकारियों को ट्रेनिंग दी गई।

Source link